राहत इन्दौरी
Rahat Saab At Ahmedabad.jpg
जन्मराहत कुरैशी
1 जनवरी 1950 (1950-01-01) (आयु 70)
इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत
मृत्यु11 अगस्त 2020(2020-08-11) (उम्र 70) दिल का दौरा
इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत
व्यवसायउर्दू शायर, गीतकार
राष्ट्रीयताभारतीय
नागरिकताभारतीय
शिक्षाउर्दू साहित्य में स्नातकोत्तर एवं पीएचडी
विधागज़ल, नज़्म, गीत
जीवनसाथीसीमा रहत और अंजुम रहबर
सन्तानशिबली, फैसल, सतलज

राहत इन्दौरी (1 जनवरी 1950 – 11 अगस्त 2020 ) एक भारतीय उर्दू शायर और हिंदी फिल्मों के गीतकार थे।[1] वे देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर में उर्दू साहित्य के प्राध्यापक भी रहे। 11 अगस्त 2020 को पूर्णहृद्रोधव से उनका निधन हो गया।[2]

प्रारंभिक जीवन एवं शिक्षा

राहत का जन्म 1 जनवरी 1950 को इंदौर में रफ्तुल्लाह कुरैशी और मकबूल उन निशा बेगम के यहाँ हुआ था। इनके पिता वस्त्र कारख़ाने के कर्मचारी थे। ये अपने माता पिता की चौथे संतान थे। राहत जी की दो बड़ी बहनें थी, जिनके नाम तहज़ीब और तक़रीब थे। उनके एक बड़े भाई अकील और एक छोटे भाई आदिल हैं। परिवार की आर्थिक स्थिति बुरी होने के कारण उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। 10 साल की उम्र में ही उन्होंने साइन चित्रकारी का कार्य आरंभ किया।[3] उनकी प्रारंभिक शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर में हुई। उन्होंने इस्लामिया करीमिया कॉलेज इंदौर से 1973 में अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी की[4] और 1975 में बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय, भोपाल से उर्दू साहित्य में एमए किया।[5] इसके बाद उन्होंने बरकतुल्ला विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की और उन्होंने 1985 में मध्य प्रदेश के भोज विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में पीएचडी की शिक्षा पूरी की। उर्दू मुख्य मुशायरा नामक उनकी थीसिस के लिए उन्हें सम्मानित भी किया गया था।[6]

प्रगति

राहत इंदोरी ने अपने शुरुवाती दिनों में इंद्रकुमार कॉलेज, इंदौर में उर्दू साहित्य का अध्यापन कार्य शुरू किया। आगे चल‌कर उन्होंने मुशायरों पर ध्यान दिया। अपनी प्रतिभा के कारण उन्हें यहां जल्दी ही ख्याति प्राप्त हुई। कुछ ही समय में वें उर्दू साहित्य के प्रसिद्ध शायर बन गए। वें खेलकूद में भी प्रवीण थे, वे स्कूल और कॉलेज स्तर पर फुटबॉल और हॉकी टीम के कप्तान भी रह चुके थे। वह केवल 19 वर्ष के थे जब उन्होंने अपने कॉलेज के दिनों में अपनी पहली शायरी सुनाई थी।[7][8]

निधन

10 अगस्त 2020 को उन्हें कोरोनावायरस के लिए सकारात्मक पाया गया और उन्हें मध्य प्रदेश के इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां 11 अगस्त 2020 को उनका निधन हो गया क्योंकि उनके निधन से पहले उन्हें पूर्णहृदरोध का सामना करना पड़ा था।[9][10][11]

सन्दर्भ

  1. मिश्रा, अम्ब्रीश. "MP's Bollywood connection grows behind the camera" [कैमरे के पीछे बॉलीवुड का मध्य प्रदेश से जुड़ाव में बढ़ रहा]. इंडिया टुडे (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-08-13.
  2. "राहत इंदौरी का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद थे भर्ती". बीबीसी हिन्दी. 2020-08-11. अभिगमन तिथि 2020-08-13.
  3. "राहत इंदौरी का जीवन परिचय और रचनाएं Rahat Indori Biography and Poetry in Hindi". www.bharatdarshan.co.nz.
  4. "संग्रहीत प्रति" (अंग्रेज़ी में). मूल से 12 अक्टूबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2014.
  5. "Urdu doyen Rahat Indori passes away due to coronavirus, leaves behind fiery verse - Rest in peace" [उर्दू डीन राहत इन्दौरी कोरोना वायरस से चल बसे, अपने उग्र वचन छोड़ गये - शान्ति मिले]. द इकोनोमिक टाइम्स (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-08-13.
  6. "14 Exceptional Shayris By Rahat Indori That Are Full Of Wisdom" (अंग्रेज़ी में). 30 July 2016. अभिगमन तिथि 31 July 2016.
  7. "जानिए राहत कुरैशी के राहत इंदौरी बनने तक की पूरी कहानी, कितनी की थी शादियां". दैनिक जागरण. अभिगमन तिथि 2020-08-12.
  8. "इंदौर में ऑटो चलाते थे कामिल के अब्बा, बच्चे का नाम बदलकर राहत उल्लाह रखा, वह बना शहर की साहित्यिक पहचान". दैनिक भास्कर. 11 अगस्त 2020.
  9. "Rahat Indori dies of cardiac arrest in Indore after testing coronavirus positive". इंडिया टुडे. 11 अगस्त 2020. अभिगमन तिथि 11 अगस्त 2020.
  10. तिवाड़ी, तरुण (11 अगस्त 2020). "Indore: Legendary poet Rahat Indori dies of COVID-19". फ्री प्रेस जरनल इंडिया. अभिगमन तिथि 11 अगस्त 2020.
  11. "Noted Urdu Poet Rahat Indori Tests Positive for Covid-19, Admitted to Hospital". न्यूज़18. 11 अगस्त 2011. अभिगमन तिथि 11 अगस्त 2020.

बाहरी कड़ियाँ