दुबई
دبي
महानगर
दुबई
दुबई के धरोहर
दुबई के धरोहर
संयुक्त अरब अमीरात मे दुबई का स्थान
संयुक्त अरब अमीरात मे दुबई का स्थान
देशFlag of the United Arab Emirates.svg संयुक्त अरब अमीरात
इमिरेटसाँचा:देश आँकड़े दुबई दुबई
संस्थापकअल मक्तुम
शासन
 • प्रणालीसंबैधानिक राजतन्त्र[1]
 • इमिरमोहम्मद बिन रसिद अल मक्तुम
 • राजकुमारहमाद बिन मोहम्मद अल मक्तुम
क्षेत्रफल[2]
 • कुल4114 किमी2 (1,588 वर्गमील)
जनसंख्या (1 जनवरी 2013)
 • कुल21,06,177
समय मण्डलयूएई मानक समय (यूटीसी+4)
जिडिपीयुएस$ 82.9 बिलियन[3]
प्रति व्यक्ति जीडिपीयुएस$ 24,866 पिपिपी[3]
वेबसाइटदुबई अमीरात
दुबई नगर पालिका
दुबई पर्यटन

दुबई अरबी: دبيّसंयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की सात अमीरातों में से एक है। यह फारस की खाड़ी के दक्षिण में अरब प्रायद्वीप पर स्थित है। दुबई नगर पालिका को अमीरात से अलग बताने के लिए कभी कभी दुबई राज्य बुलाया जाता है। दुबई, मध्य पूर्व के एक वैश्विक नगर तथा व्यापार केन्द्र के रूप में उभर कर सामने आया है। लिखित दस्तावेजों में इस शहर का अस्तित्व संयुक्त अरब अमीरात के गठन से 150 साल पहले होने का जिक्र है।

दुबई अन्य अमीरातों के साथ कानून, राजनीति, सैनिक और आर्थिक कार्य एक संघीय ढांचे के भीतर साझा करता है। हालांकि प्रत्येक अमीरात में नागरिक कानून लागू करने और व्यवस्था और स्थानीय सुविधाओं के रखरखाव जैसे कुछ कार्यों पर क्षेत्राधिकार है। दुबई की आबादी सबसे ज्यादा है और यह क्षेत्रफल में अबू धाबी के बाद दूसरी सबसे बड़ी अमीरात है।[4] दुबई और अबू धाबी ही सिर्फ दो अमीरात है जिनके पास देश की विधायिका अनुसार राष्ट्रीय महत्व के महत्वपूर्ण मामलों पर प्रत्यादेश शक्ति का अधिकार है।[5] दुबई पर 1833 से अल माकतौम वंश ने शासन किया है। इसके मौजूदा शासक मोहम्मद बिन रशीद अल माकतौम संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और उप राष्ट्रपति भी है।

अमीरात का मुख्य राजस्व पर्यटन, जायदाद और वित्तीय सेवाओं से आता है।[6] दुबई की अर्थव्यवस्था मूलतः तेल उद्योग पर निर्मित है, वर्तमान में 80 अरब अमेरिकी डॉलर (2009) की अमीराती अर्थव्यवस्था में पेट्रोल तथा प्राकृतिक गैस का राजस्व योगदान 6% (2006) से कम है। संपत्ति और निर्माण ने 2005 में अर्थव्यवस्था में वर्तमान के बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य में तेजी से पहले 22.6% का योगदान दिया .[7]

दुबई ने कई अभिनव बड़ी निर्माण परियोजनाओं[8] और खेल आयोजनों के माध्यम से दुनिया का ध्यान आकर्षित किया है। सबका ध्यान आकर्षित होने के साथ ही एक वैश्विक शहर[9] और व्यापार केन्द्र के रूप में उभरने की वजह से दुबई में श्रम और मानव अधिकारों से जुड़े कर्मचारियों मुख्यतः दक्षिण एशियाई कर्मचारियों से संबंधित मुद्दे प्रकाश में आये हैं .[10]

व्युत्पत्ति

1820 में, दुबई को ब्रिटिश इतिहासकारों द्वारा अल वस्ल (Al Wasl) के रूप में उल्लिखित किया गया था। संयुक्त अरब अमीरात या उसके घटक अमीरात के सांस्कृतिक इतिहास से संबंधित कुछ अभिलेख क्षेत्र की मौखिक परंपरा के दर्ज होने और लोककथाओं व मिथको के आगे बढ़ने की वजह से मौजूद हैं . शब्द दुबई की मूल भाषा के बारे में भी विवाद रहे हैं, कुछ लोगों का मानना है कि यह फारसी भाषा से उत्पन्न हुआ है, जबकि कुछ का मानना है कि अरबी इस शब्द की मूल भाषा है। फेडेल हन्धाल (Fedel Handhal) जो सयुंक्त अरब अमीरात के इतिहास और संस्कृति के शोधकर्ता है, के अनुसार शब्द दुबई का मूल शब्द दाबा (Daba) (यादुब ((Yadub) का एक व्युत्पन्न) से आया हो सकता है, जिसका मतलब रेंगना होता है। यह शब्द हो सकता है कि दुबई खाड़ी के भीतरी प्रवाह के संदर्भ में हो सकता है जबकि कवि और विद्वान अहमद मोहम्मद ओबैद भी इसी शब्द को माध्यम बताते हैं, लेकिन उनके अनुसार इसका अर्थ टिड्डी है।[11]

इतिहास

दक्षिण- पूर्वी अरब प्रायद्वीप की इस्लाम से पूर्व की संस्कृति के बारे में काफी कम जानकारी है सिवा इसके कि कई प्राचीन नगरों के क्षेत्र पूर्वी और पश्चिमी दुनिया के बीच के व्यापार केंद्र थे। एक प्राचीन सदाबहार दलदल के अवशेष जो 7,000 साल पुराने है, दुबई इंटरनेट सिटी (Dubai Internet City) की सीवर लाइन के निर्माण के दौरान पाये गए . यह क्षेत्र 5,000 साल पहले समुद्र तट पीछे हट जाने से रेत से ढका हुआ था और शहर के वर्तमान समुद्र तट का एक हिस्सा बन गया था। [12]

अल फहिदी किला, 1799 में बनाया, दुबई में सबसे पुराना मौजूदा इमारत है - अब दुबई संग्रहालय का हिस्सा है।[13]

इस्लाम के पहले यहाँ के लोग बजीर (Bajir) (या बजर) की उपासना करते थे। [14] बैज़न्तिन (Byzantine) और सासानियन (Sassanian) (फारसी) साम्राज्य ने अवधि की महान शक्तियों का गठन किया और ज्यादा क्षेत्र को सासानियन नियंत्रित करने लगे . इस क्षेत्र में इस्लाम के प्रसार के बाद, उमय्यद कालिफ (Umayyad Caliph), पूर्वी इस्लामी दुनिया के, ने दक्षिण-पूर्वी अरब पर हमला कर दिया और सासानियन को बाहर कर दिया . अल-जुमायरा (जुमेरह) के क्षेत्र में दुबई संग्रहालय की खुदाई में उमय्यद अवधि की कई कलाकृतियाँ पायीं गई है।[15]

दुबई का सबसे पहले का उल्लेख 1095 में दर्ज़ है, एन्डालुसियन - अरब (Andalusian-Arab) भूगोलिक अबु अब्दुल्ला अल-बकरी की "बुक ऑफ़ गेओग्राफी" (Book of Geography) में . वेनिस के मोती व्यापारी गस्पेरो बल्बी (Gaspero Balbi) ने 1580 में इस इलाके का दौरा किया और दुबई (डिबई) का उल्लेख इसके मोती उद्योग के लिए किया। [15] दुबई के शहर के दस्तावेज अभिलेख केवल 1799 के बाद से ही मौजूद हैं .[16]

19 वीं सदी के शुरू में, बनी यास (Bani Yas) वंश के अल अबू फालसा परिवार (हाउस अल-फालासी) ने दुबई की स्थापना की है, जो 1833 तक अबू धाबी पर निर्भर था। [17] 8 जनवरी 1820 को, दुबई और इस क्षेत्र में अन्य शेखों ने ब्रिटिश सर्कार के साथ "जनरल समुद्री शांति संधि" (General Maritime Peace Treaty) पर हस्ताक्षर किये .[12] 1833 में बनी यास जनजाति के अल मकतौम वंश (हाउस अल-फालासी के वंशज) ने अबू धाबी का समझौता छोड़ दिया और बिना विरोध के अबू फासला वंश से दुबई को ले लिया .[17]

दुबई 1892 के 'विशेष समझौते" द्वारा यूनाइटेड किंगडम के संरक्षण के अंतर्गत आ गया जिसमे ब्रिटेन ने दुबई की ओटोमन साम्राज्य से रक्षा की सहमति दी .[17] 1800 के दौरान शहर में दो बार प्रलय आई . पहला, 1841 में बुर दुबई इलाके में चेचक महामारी जिसने इसके निवासियों को डिरा के पूर्व में शरण लेने को मजबूर कर दिया . और फिर, 1894 में, डिरा में एक आग लगी जिसमे कई घर जल गए .[18] हालांकि, शहर की भौगोलिक स्थिति ने इस क्षेत्र के आसपास से व्यापारियों और सौदागरों को आकर्षित करना जारी रखा . दुबई के अमीर ने विदेशी व्यापारियों को आकर्षित करने के लिए उत्सुक था और उसने व्यापार कर को कम कर दिया जिसने व्यापारियों को शारजाह (Sharjah) और बन्दर लेंगेह (Bandar Lengeh) से खीच लिया जो उस समय इस क्षेत्र के मुख्य व्यापार केन्द्र थे। [18][19]

20 वीं सदी

दुबई की ईरान से भौगोलिक निकटता ने इसे एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है। दुबई का शहर विदेशी व्यापारियों के लिए एक महत्वपूर्ण बंदरगाह था, मुख्यतः ईरान के व्यापारियों के लिए, जिसमे कई अंततः इसी शहर में बस गए . दुबई 1930 के दशक तक अपने मोती निर्यात के लिए जाना जाता था पर विश्व युद्घ 1 से यह उद्योग क्षतिग्रस्त हो गया था और बाद में 1930 के दशक में विश्व्यापी मंदी से यह फिर से क्षतिग्रस्त हो गया . मोती व्यापार के पतन के साथ कई निवासी फारस की खाड़ी के अन्य भागों में चले गए .[12]

AlRas Deira Mid1960s.jpg

अपनी स्थापना के बाद से ही दुबई अबु धाबी के अनुपात पर था। 1947 में, दुबई और अबु धाबी के उत्तरी क्षेत्र की साझा सीमा का विवाद युद्ध में बदल गया .[20] ब्रिटेन की मध्यस्तता और एक मध्यवर्ती सीमा जो रस हसियन (Ras Hasian) तट से दक्षिण पूर्व की ओर थी के परिणामस्वरूप दोनों से बीच एक अस्थायी युद्धस्तिथि विराम आ गया था। [21]

अमीरात के बीच सीमा विवाद संयुक्त अरब अमीरात के गठन के बाद भी जारी रहा और 1979 में ही एक औपचारिक समझौते के बाद युद्ध समाप्त हुआ .[22] बिजली, टेलीफोन सेवाओं और एक हवाई अड्डे दुबई में 1950 के दशक में स्थापित हुए जब ब्रिटिश अपने स्थानीय प्रशासनिक कार्यालयों शारजाह से दुबई ले गए .[23] 1966 में शहर ने कतर के नव स्वतंत्र देश के साथ फारस की खाड़ी रुपए के अवमूल्यन के बाद नै मौद्रिक इकाई कतर/दुबई रियाल की स्थापना की .[16] उसी साल दुबई में तेल का पता चला जिसके बाद शहर ने अंतरराष्ट्रीय तेल कंपनियों को रियायतें दी . तेल की खोज से विदेशी कर्मचारियों की एक बाढ़ सी आ गई जिसमे मुख्यतः भारतीय और पाकिस्तानी लोग थे। कुछ अनुमानों के अनुसार शहर की जनसँख्या 1968 से 1975 300% तक बढ़ गई थी। [24]

पूर्व रक्षक ब्रिटेन के 1971 में फारस की खाड़ी छोड़ने के बाद 2 दिसम्बर 1971 को दुबई ने अबु धाबी और पांच अन्य अमीरात के साथ मिलकर संयुक्त अरब अमीरात की स्थापना की .[25] 1973 में, दुबई ने अन्य अमीरातों के साथ मिलकर एक समान मुद्रा : संयुक्त अरब अमीरात दिरहम अपनाई . 1970 के दशक में, दुबई में तेल और व्यापार से उत्पन्न राजस्व में निरंतर बढोत्तरी होती रही, जबकि शहर में लेबनान के गृह युद्ध से भागे हुए आप्रवासियों की बाढ़ आ गयी थी। [26] जेबेल अली बंदरगाह (दुनिया का सबसे बड़ा मानव निर्मित बंदरगाह) 1979 में स्थापित किया गया था। जफ्ज़ा (Jafza)(जेबेल अली नि:शुल्क जोन) का बंदरगाह के आसपास निर्माण 1985 में विदेशी कंपनियों को अप्रतिबंधित श्रम आयात और पूंजी निर्यात प्रदान करने के लिए किया गया था। [27]


फारस की खाड़ी के 1990 के युद्ध का शहर पर बड़ा प्रभाव पड़ा . जमाकर्ताओं ने क्षेत्र में अनिश्चित राजनीतिक परिस्थितियों के कारण दुबई के बैंकों से भारी मात्रा में पूँजी वापस ले ली . बाद में 1990 के दशक में कई विदेशी व्यापारिक समुदाय - पहली बार कुवैत से फारस की खाड़ी युद्ध के दौरान और बाद में बहरीन से शिया अशांति के दौरान - ने अपने व्यापार को दुबई में स्थानांतरित कर दिया .[19] दुबई ने फारस की खाड़ी युद्ध के दौरान और बाद में 2003 इराक आक्रमण के दौरान सेना संबद्ध को जेबेल अली फ्री ज़ोन को ईंधन आधार के लिए इस्तेमाल करने दिया . फारस की खाड़ी के युद्ध के बाद बढ़ी हुई तेल की कीमतों ने दुबई को मुक्त व्यापार और पर्यटन पर ध्यान देना जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया। [28]

जेबेल अली मुक्त क्षेत्र की सफलता ने शहर को इस मॉडल की नकल कर नए मुक्त क्षेत्र के समूहों के विकास की अनुमति दी जिसमे दुबई इंटरनेट सिटी, दुबई मीडिया सिटी और दुबई मैरीटाइम सिटी भी शामिल है। बुर्ज अल अरब, दुनिया के सबसे बड़ा प्रथक होटल के निर्माण और साथ ही नये आवासीय गतिविधियों के निर्माण को पर्यटन के लिए दुबई के प्रचार के लिए इस्तेमाल किया गया . 2002 के बाद से निजी संपत्ति के विकास में वृद्धि ने दुबई के क्षितिज[28] का विशाल परियोजनाओं, द पाल्म आइलैंड, द वर्ल्ड आइलैंड और द बुर्ज खलीफा के साथ पुनः निर्माण किया। हाल ही के मजबूत आर्थिक विकास ने उच्च मुद्रास्फीति को भी बढ़ावा मिला (11.2%, 2007 में जब उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के खिलाफ मापा गया) जिसका एक कारण वाणिज्यिक और आवासीय किराए का दोहरीकरण भी माना जाता है।[29]

भूगोल

Dubai map city.svg
City of Dubai at Night, United Arab Emirates.jpg
Dubai 2010.JPG
दुबई के एक रेगिस्तान में रेत का टीला, एक रेगिस्तान सफारी के दौरान

दुबई संयुक्त अरब अमीरात के फारस की खाड़ी के तट पर स्थित है और मोटे तौर पर समुद्र स्तर (16 मी॰ या 52 फीट*ऊपर) है। दुबई के अमीरात दक्षिण में अबु धाबी के साथ, पूर्वोत्तर में शारजाह के साथ और दक्षिण पूर्व में ओमान सल्तनत के साथ सीमा बाँटता हैं . हट्टा, अमीरात की एक छोटी सी भूमि है जो तीन तरफ से ओमान और अजमान के अमीरात (पश्चिम में) और रास अल खैमाह (उत्तर में) द्वारा घिरी हुई है। फारस की खाड़ी की सीमाएं अमीरात के पश्चिमी तट से जुड़ी है। दुबई की स्तिथि 25°16′11″N 55°18′34″E / 25.2697°N 55.3095°E / 25.2697; 55.3095 है और 4,114 किमी ² (1,588 मील ²) के क्षेत्र में विस्तृत है, यह अपने आरंभिक 1,500 मील के क्षेत्र से परे है जो समुद्र से उद्धार के कारण हुआ हैं .

दुबई अरेबियन रेगिस्तान के भीतर है। लेकिन दुबई की स्थलाकृति संयुक्त अरब अमीरात के दक्षिणी भाग से काफी अलग है, दुबई के परिदृश्य की विशिष्टता रेतीले रेगिस्तान के रूप में है, जबकि दक्षिणी क्षेत्र में बजरी रेगिस्तान की अधिकता है।[30] रेत में मुख्यतः टूटी हुई सीप और प्रवाल हैं और यह अच्छी, साफ और सफेद है। शहर का पूर्व जो नमक की परत का तटीय मैदान है जिसे सब्खा (sabkha) के नाम से जाना जाता है, एक उत्तर- दक्षिणी रेतीय रेखा को रास्ता देता है। दूर पूर्व की ओर, रेतीय टीले बड़े हो गए और लोहे के आक्साइड से लाल हो गए .[24]

सपाट रेतीला रेगिस्तान पश्चिमी हज़र पर्वत को रास्ता देता है, जो हट्टा पर दुबई ओमान की सीमा के साथ चलता है। पश्चिमी हज़ार श्रृंखला का एक शुष्क, कटीला और उजड़ा परिदृश्य है, जिसके पहाड़ कुछ स्थानों पर लगभग 1,300 मीटर तक ऊँचे है। दुबई में कोई प्राकृतिक नदी या मरू उद्यान नहीं है, तथापि, दुबई में एक प्राकृतिक प्रवेश है, दुबई की खाड़ी, जिसको जाल से बाँध कर गहरा कर बड़े जहाजों के जाने के योग्य बना दिया गया है। दुबई में कई पहाड़ों के बीच संकरें पथ और जलछिद्र भी है जिनका आधार पश्चिमी अल हज़र पहाड़ियां है। रेतीय टीलों का एक विशाल समुद्र दक्षिणी दुबई में फैला है जो अंततः एक द एम्प्टी क्वार्टर (The Empty Quarter) रेगिस्तान को जाता है। भूकंप के हिसाब से, दुबई एक बहुत ही स्थिर क्षेत्र है - सबसे पास की भूकंपीय रेखा, ज़ार्गोस फॉल्ट (Zargos fault) संयुक्त अरब अमीरात से 120 किमी दूर है और इसकी दुबई पर कोई भूकंप प्रभाव की संभावना नहीं है।[31] विशेषज्ञों का यह भी अनुमान है कि इस क्षेत्र में सुनामी की संभावना बहुत कम है क्योंकि फारस की खाड़ी के पानी की गहराई एक सुनामी को शुरू करने के लिए काफी कम है।[31]

शहर के आसपास के रेतीले रेगिस्तान जंगली घास और कभी कभी खजूर को सहारा देते है। रेगिस्तानी फूल सब्खा मैदानों में शहर के पूर्वी इलाकों में उगते है जबकि बबूल और खेजड़ी के पेड़ पश्चिमी अल हज़र पहाड़ियों के निकट सपाट मैदानों में होते हैं . कई देशी पेड़ जैसे खजूर और नीम और कई आयातित पेड़ जैसे सफेदा दुबई के प्राकृतिक पार्क में उगाए जाते है। हौबरा तुगदर, धारीदार लकड़बग्घा, स्याहगोश, रेगिस्तानी लोमड़ी, बाज़ और अरबी ओरिक्स जैसे जानवर दुबई के रेगिस्तान में आम है। दुबई यूरोप, एशिया और अफ्रीका के बीच प्रवास के रास्ते पर है और 320 से अधिक प्रवासी पक्षी प्रजातियाँ बसंत और पतझड़ में अमीरात से होकर गुजरती हैं . दुबई के जल में हैमौर सहित मछलियों की 300 से अधिक प्रजातियाँ पाई जाती है।

दुबई की खाड़ी शहर के पूर्वोत्तर-दक्षिण पश्चिमी तरफ है। शहर का पूर्वी भाग डिरा के इलाके बनाता है और पूर्व में शारजाह के अमीरात और दक्षिण में अल अवीर के शहर से जुड़ा है। दुबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा डिरा के दक्षिण में स्थित है जबकि पाम डिरा, डिरा के उत्तर में फारस की खाड़ी में स्थित है। दुबई की अचल संपत्ति का उछाल ज्यादातर दुबई की खाड़ी के पश्चिम में, जुमेरह तटीय क्षेत्र पर केन्द्रित है। पोर्ट राशिद, जेबेल अली, बुर्ज अल अरब, पाम जुमेरह और विषय आधारित मुक्त-क्षेत्र जैसे बिजनेस बेय सब इसी भाग में स्थित है। पांच मुख्य मार्ग - ई 11 (शेख जायद रोड), ई 311 (अमीरात रोड), ई 44 (दुबई-हट्टा राजमार्ग), ई 77 (दुबई अल हबाब रोड) और ई 66 (ओउद मेथा रोड) - दुबई से जाते है और शहर को अन्य शहरों और अमीरातों से जोड़ते है। इसके अतिरिक्त, कई महत्वपूर्ण अंतर शहरी मार्ग जैसे D 89 (अल मकतौम रोड/हवाई अड्डा रोड), D 85 (बनियास रोड), D 75 (शेख राशिद रोड), D 73 (अल धियाफा रोड), D 94 (जुमेरह रोड) और D 92 (अल ख़लीज/अल वस्ल रोड) शहर में विभिन्न इलाकों को जोड़ते हैं . शहर के पूर्वी और पश्चिमी वर्गों अल मकतौम ब्रिज, अल गरहौद ब्रिज, अल शिनदाघा सुरंग, बिजनेस बेय क्रोसिंग और फ्लोटिंग ब्रिज से जुड़े हुए हैं .

जलवायु

दुबई की जलवायु गर्म और शुष्क है। दुबई में गर्मियां बेहद गर्म, तूफानी और शुष्क होती है और औसत उच्च लगभग 40 °से. (104 °फ़ै) और रात भर निम्न लगभग 30 °से. (86 °फ़ै) होता है। साल भर गर्म दिनों की उम्मीद की जा सकती है। सर्दियां गर्म और छोटी होती है और औसत उच्च 23 °से. (73 °फ़ै) और रात भर निम्न 14 °से. (57 °फ़ै) होता है। वर्षा, पिछले कुछ दशकों में बढ़ रही है और संचित वर्षा प्रति वर्ष 150 मि॰मी॰ (0.49 फीट) है। यह इस क्षेत्र की शुष्कता को प्रभावित नहीं करता है यद्यपि इससे रेगिस्तानी झाड़ियों की संख्या में वृद्धि हुई है।

साँचा:Dubai weatherbox

सरकार और राजनीति

दुबई पुलिस कार, एक बीएमडब्ल्यू 5 सीरीज कार
दुबई में लगभग 250,000 मजदूर है, ज्यादातर संपत्ति विकास परियोजनाओं जैसे द दुबई मरीना के रूप में काम करने वाले दक्षिण एशियाई लोग

दुबई सरकार एक संवैधानिक राजशाही ढांचे के भीतर संचालित होती है और अल मकतौम परिवार द्वारा 1833 के बाद से शासित है। मौजूदा शासक मोहम्मद बिन रशीद अल मकतौम संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और सुप्रीम संघ परिषद् (SCU) के सदस्य भी है। दुबई 2 सत्र विधि के लिए 8 सदस्यों की संयुक्त अरब अमीरात की संघीय राष्ट्रीय परिषद (Federal National Council - FNC) जो सर्वोच्च संघीय वैधानिक संस्था है, में नियुक्ति करती है।[32] दुबई नगर पालिका (डीएम) की स्थापना तत्कालीन शासक राशिद बिन सईद अल मकतौम ने 1954 में नगर नियोजन, नागरिक सेवाओं और स्थानीय सुविधाओं के रखरखाव के प्रयोजनों के लिए की थी। [33]

डीएम की अध्यक्षता हमदान बिन राशिद अल मकतौम, दुबई के उप शासक द्वारा की जाती है और इसमें अनेक विभाग जैसे सड़क विभाग, योजना और सर्वेक्षण विभाग, पर्यावरण एवं जन स्वास्थ्य विभाग और वित्तीय मामलों के विभाग शामिल हैं . सन् 2001 में दुबई नगर पालिका ने अपने वेब पोर्टल (दुबई.एई) द्वारा अपनी 40 शहरी सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए एक ई- सरकार परियोजना शुरू की . ऐसी 13 सेवाएँ अक्टूबर 2001 से शुरू की गई, जबकि कई अन्य सेवाएं भविष्य में चालू होने की आशा है।

दुबई और रास अल खैमाह ही केवल अमीरात है जो संयुक्त अरब अमीरात की संघीय न्यायिक प्रणाली के अनुरूप नहीं हैं . अमीरात की न्यायिक अदालत हैं द कोर्ट ऑफ़ फर्स्ट इंस्टैंस, द कोर्ट ऑफ़ अपील और द कोर्ट ऑफ़ कैसशन . द कोर्ट ऑफ़ फिस्र्ट इंस्टैंस में सिविल कोर्ट होते हैं जो सभी नागरिकों के दावे सुनते है, अपराध न्यायालय, जो पुलिस की शिकायतों से जुड़े दावे सुनते है और शरिया कोर्ट जो मुसलमानों के बीच मामलों के लिए जिम्मेदार है। गैर मुसलमान शरिया कोर्ट के सामने प्रकट नहीं होते हैं . द कोर्ट ऑफ़ कैसशन अमीरात का सुप्रीम कोर्ट है और कानून के मामलों पर विवाद सुनता है।[34]

दुबई पुलिस बल की स्थापना नैफ इलाके में 1956 में हुई और इसका कानून प्रवर्तन अधिकार क्षेत्र अमीरात है। यह बल मोहम्मद बिन रशीद अल मकतौम, दुबई के शासक की प्रत्यक्ष कमान के अधीन है। दुबई नगर पालिका शहर की स्वच्छता और मलजल बुनियादी सुविधाओं के प्रभारी भी हैं . शहर के तेज विकास ने इसके सीमित सीवेज उपचार के बुनियादी ढांचे को उसकी चरम सीमा तक खीच दिया है।[35]

संयुक्त अरब अमीरात के संविधान का अनुच्छेद 25 जाति, राष्ट्रीयता, धार्मिक विश्वासों या सामाजिक स्थिति के आधार पर सभी को सामान आचरण प्रदान करता है। हालाँकि, दुबई के 250,000 में से अनेक विदेशी मज़दूरों की स्तिथि को मानव अधिकार वॉच द्वारा "मानवीय से कम " वर्णित किया गया है।[36][37][38][39] NPR अनुसार श्रमिक "आम तौर पर एक कमरे में आठ रहते है और अपने वेतन का एक हिस्सा वे अपने परिवारों को, जिन्हें वे सालों नहीं देख पाते है, को भेजते है।" 21 मार्च 2006 को बुर्ज खलीफा निर्माण स्थल के श्रमिक जो बस के समय और काम की परिस्थितियों से परेशान थे, ने आन्दोलन कर दिया था जिससे कारों, कार्यालयों, कंप्यूटरों और निर्माण उपकरणों को हानि हुई थी। [40][41][42] वैश्विक वित्तीय संकट ने दुबई के श्रमिक वर्ग को नुक्सान पहुँचाया है, कई श्रमिकों को भुगतान नहीं किया जा रहा है और वे देश छोड़ने में भी असमर्थ है।[43]

दुबई में विदेशी नागरिकों के जुड़े न्यायिक सिद्धांतों को 2007 में रौशनी में लाया गया जब एलेक्जेंडर रॉबर्ट नामक एक 15 वर्षीय फ़्रांसिसी- स्विस नागरिक के साथ तीन स्थानीय लोगों द्वारा बलात्कार, जिसमे से एक एचआइवी पोसिटिव था[42] और हाल में ही प्रवासी मजदूर जिनमे से अधिकांश भारतीय थे जो बुरी मजदूरी और जीवन स्थितियों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे, के कैद जैसी घटनाओं को कथित रूप से छुपाने की कोशिश की गयी थी। [43] वेश्यावृत्ति, जो कानून द्वारा अवैध है, सुस्पष्ट रूप से अमीरात में मौजूद है क्योंकि इसकी अर्थव्यवस्था बड़े पैमाने पर पर्यटन और व्यापार पर आधारित है। अमेरिकन सेन्टर फॉर इंटरनेशनल पॉलिसी स्टडीज (AMC.PS) द्वारा किए गए एक शोध में पाया गया कि रूसी और इथियोपिया की महिलायें सबसे आम वेश्याओं हैं, साथ ही कुछ अफ्रीकी देशों की भी महिलाएं है, जबकि भारतीय वेश्याएं एक अच्छी तरह से आयोजित ट्रांस ओशियानिक वेश्यावृत्ति नेटवर्क का हिस्सा हैं .[44] एक 2007 की PBS की दुबई : रात के राज़ नामक वृत्तचित्र के अनुसार क्लब में अधिकारियों द्वारा वैश्यावृत्ति को सहन किया जाता है और कई विदेशी महिलाओं वहां बिना मजबूरी के पैसे से आकर्षित होकर काम करती हैं .[44][45][46]

इन्हें भी देखें:
इन्हें भी देखें: Indians in the United Arab Emirates, Islam in the United Arab Emirates, Roman Catholicism in the United Arab Emirates, एवं Bahá'í Faith in the United Arab Emirates
वर्ष जनसंख्या
1822 1 1,200[47]
1900 1 10,000[48]
1930 1 20,000[49]
1940 1 38,000[47]
1954 1 20,000[47]
1960 1 40,000[50]
1968 58,971[51]
1975 183,000[52]
1985 370,800[53]
1995 674,000[53]
2005 1,204,000
1 दुबई शहर में पहली जनगणना का आयोजन 1968 में किया गया . इस तालिका में 1968 के पहले के सभी जनसंख्या के आंकड़े अनुमानित है और विभिन्न स्रोतों से प्राप्त हैं .

दुबई के सांख्यिकी केंद्र द्वारा आयोजित की गई जनगणना के अनुसार, अमीरात की 2006 में आबादी 1,422,000 थी जिसमे 1,073,000 पुरुष और 349,000 महिलाएं शामिल थी। [54]

क्षेत्र 497.1 वर्ग मील (1,287.4 km2) तक फैला हुआ हैं . जनसंख्या घनत्व 408.18/km2 है जो पूरे देश से आठ गुना अधिक हैं . दुबई क्षेत्र में दूसरा सबसे महंगा शहर है और दुनिया में 20 वां सबसे महंगा शहर हैं .[55]

1998 के रूप में, अमीरात की जनसंख्या का 17% भाग संयुक्त अरब अमीरात के नागरिकों का था। लगभग प्रवासियों की जनसँख्या (और अमीरात की कुल आबादी का 71% भाग) का 85% भाग एशियाई था, मुख्यतः (51%) भारतीय, पाकिस्तानी (15%) और बांग्लादेशी (10%) .[56] लेकिन जनसंख्या का एक चौथाई भाग कथित तौर पर ईरानी मूल का है।[57] इसके अतिरिक्त, जनसंख्या का 16% भाग (या 288,000 लोग) सामूहिक श्रम आवास में रहने वाले लोगों की जातीयता या राष्ट्रीयता की पहचान नहीं है लेकिन यह मुख्यतः एशियाई सोचा गया है।[58] अमीरात में औसत उम्र 27 साल थी। अपक्व जन्म दर 2005 में 13.6% थी जबकि अपक्व मृत्यु दर 1% थी। [59]

हालांकि दुबई की अधिकारिक भाषा अरबी है पर उर्दू, फारसी, हिंदी, मलयालम, बंगाली, तमिल, टैगलोग, चीनी और अन्य कई भाषाएँ भी दुबई में बोली जाती हैं . अंग्रेजी शहर की सामान्य भाषा है और निवासियों द्वारा बहुत ही व्यापक रूप से बोली जाती है।

संयुक्त अरब अमीरात अनंतिम संविधान के अनुच्छेद 7 के अनुसार इस्लाम संयुक्त अरब अमीरात शासकीय राज्य धर्म है। सरकार लगभग 95% मस्जिदों को सहायता देती है और सभी इमामों को रोज़गार देती है ; लगभग 5% मस्जिद पूरी तरह से निजी हैं और कई बड़ी मस्जिदों के बड़े निजी वृत्तिदान है।[60]

दुबई में बड़ी संख्या में हिंदू, ईसाई, सिख, बौद्ध और अन्य धार्मिक समुदाय के लोग शहर में रहते हैं .[कृपया उद्धरण जोड़ें] गैर मुस्लिम समूहों के लोग अपने स्वयं के पूजा घर बना सकते है जहां वे मुक्त रूप से अपने धर्म का अभ्यास कर सकते हैं इसके लिए उन्हें भूमि अनुदान का अनुरोध और एक परिसर के निर्माण की अनुमति लेने की ज़रुरत होती है। जिन समुदायों के खुद के धार्मिक इमारतें नहीं होती वे अन्य धार्मिक संगठनों की सुविधाओं का प्रयोग कर सकते है या निजी घरों में पूजा कर सकते हैं .[61] गैर मुस्लिम धार्मिक समूहों को खुले तौर पर समूह के कार्यों की विज्ञापित की अनुमति है लेकिन शुद्धिकरण या धार्मिक साहित्य का वितरण जो इस्लाम का अपमान माना जाता है, आपराधिक मुकदमा चलाने, कारावास और निर्वासन के दंड के अंतर्गत आता है।[60]

अर्थव्यवस्था

[[चित्र:Dubail21.jpg|thumb|right|200px|द बुर्ज खलीफा, मनुष्य द्वारा बनाया गया सबसे ऊंचा स्वरुप [122].सन्दर्भ त्रुटि: <ref> टैग के लिए समाप्ति </ref> टैग नहीं मिला वर्त्तमान में तेल और प्राकृतिक गैस का भाग अमीरात के राजस्व का 6% से भी कम है।[62] यह अनुमान है कि दुबई 240,000 {बैरल तेल का दैनिक और अपतटीय क्षेत्र से पर्याप्त मात्र में गैस का उत्पादन करता है। संयुक्त अरब अमीरात के गैस के राजस्व में अमीरात का 2% का हिस्सा है। दुबई के तेल भंडार काफी कम हो गए है और इनके 20 साल में खत्म होने की उम्मीद हैं .[63] संपत्ति और निर्माण (22.6%),[7] व्यापर (16%), माल आगार (15%) और वित्तीय सेवाएं (11%) दुबई की अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ा योगदान देते है।[64]

एक सिटी मेयर के सर्वेक्षण में दुबई को दुनिया के बेहतरीन वित्तीय शहरों में 44 वें स्थान पर रखा गया था[65] और सिटी मेयर की दूसरी रिपोर्ट में संकेत दिया गया था कि खरीद की क्षमता में दुबई दुनिया के सबसे अमीर शहरों में 33 वें स्थान पर था। [66] दुबई एक अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय केंद्र भी है और मास्टरकार्ड वर्ल्डवाइड सेंटर्स ऑफ़ कॉमर्स इंडेक्स (Mastercard Worldwide Centers of Commerce Index) (2007)[67] के सवेक्षण में शीर्ष 50 वैश्विक वित्तीय शहरों में 37 वें और मध्य पूर्व में पहले स्थान पर था।

दुबई के पुनः निर्यात स्थलों में ईरान (790 मिलियन अमेरिकी डॉलर), भारत (204 मिलियन अमेरिकी डॉलर) और सऊदी अमेरिका (194 मिलियन अमेरिकी डॉलर) शामिल है। अमीरात के शीर्ष आयात स्रोतों में जापान (1.5 अरब अमेरिकी डॉलर), चीन (1.4 अमेरिकी डॉलर) और संयुक्त राज्य अमेरिका (1.4 अरब अमेरिकी डॉलर) शामिल है।[6] 2005 से 2009 तक दुबई और ईरान के बीच व्यापार तीन गुआ होकर 12 अरब अमेरिकी डॉलर हो गया है।[68]

ऐतिहासिक रूप से दुबई और दुबई की खाड़ी के पार इसकी अनुलिपि, डिरा (उस समय दुबई शहर से स्वतंत्र), पश्चिमी निर्माताओं के अवसरों के लिए महत्वपूर्ण बंदरगाह बन गए थे। नए शहर के ज्यादातर बैंकिंग और वित्तीय केंद्रों के मुख्यालय बंदरगाह क्षेत्र में थे। दुबई ने 1970 और 1980 के दशक में एक व्यापार मार्ग के रूप अपने महत्व को बनाए रखा . दुबई में सोने का मुक्त व्यापार होता है और 1990 के दशक तक भारत में सोने के खंड की "तेज तस्करी व्यापार"[69] का केंद्र था जहां सोने का आयात प्रतिबंधित था।

दुबई के जेबेल अली बंदरगाह का निर्माण 1970 के दशक में हुआ दुनिया का सबसे बड़ा मानव निर्मित बंदरगाह है और यह कंटेनर यातायात की मात्रा के इसके समर्थन के लिए दुनिया भर में आठवें स्थान पर था। [70] उद्योग की स्थापना के लिए शहर भर में विशेष मुक्त क्षेत्रों के साथ दुबई साथ ही आईटी और सेवा उद्योग जैसे उद्योगों के एक केन्द्र के रूप में विकसित हो रहा है। दुबई इंटरनेट सिटी, दुबई मीडिया सिटी के साथ TECOM का हिस्सा (दुबई प्रौद्योगिकी, वाणिज्य और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नि: शुल्क जोन प्राधिकरण) के रूप में दुबई मीडिया सिटी के साथ मिलकर एक ऐसी एन्क्लेव जिसके सदस्य ऐसे EMC निगम, ओरैकल कोर्पोरेशन, माइक्रोसॉफ्ट, और आईबीएम, और मीडिया संगठनों के रूप में आईटी कंपनियों में शामिल है जैसे अति पिछड़े वर्गों, सीएनएन, बीबीसी, रायटर, स्काई समाचार और एपी.

दुबई वित्तीय बाजार (DFM) की स्थापना मार्च 2000 द्वितीयक बाज़ार के रूप में स्थानीय और विदेशी व्यापारिक प्रतिभूतियों और बांड के व्यापार के लिए हुई थी। 2006 की चौथी तिमाही में, इसका व्यापार लगभग 400 बिलियन शेयरों का था जिनका कुल मूल्य 95 अरब अमेरिकी डॉलर था। डीऍफ़एम् (DFM) का बाज़ार पूंजीकरण 87 अरब अमेरिकी डॉलर था। [59]

सरकार के व्यापार आधारित लेकिन तेल निर्भर अर्थव्यवस्था से एक सेवा और पर्यटन उन्मुख अर्थव्यवस्था बनने के निश्चय ने संपत्ति को और अधिक मूल्यवान बना दिया है, जिससे 2004-2006 से संपत्ति अधिक मूल्यवान हो गई है। दुबई संपत्ति बाजार का लम्बी अवधि के आकलन में मूल्यह्रास दिखा और कुछ संपत्तियों के मूल्य में नवम्बर 2008 में 2001 से 64 % की गिरावट दिखी .[71] बड़े पैमाने पर अचल संपत्ति विकास परियोजनाओं से दुनिया की सबसे बड़ी गगनचुंबी इमारतों और विश्व की सबसे बड़ी परियोजनाओं जैसे अमीरात टावर, बुर्ज खलीफा, पाम द्वीप समूह और दुनिया का दूसरा सबसे लम्बे और सबसे महंगे होटल, बुर्ज अल अरब का निर्माण हुआ .[72]

आर्थिक मंदी के कारण दुबई के संपत्ति बाजार ने 2008/2009 में बड़ी गिरावट का अनुभव किया। [73] मोहम्मद अल अब्बर, एमार (Emaar) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने दिसम्बर 2008 में अंतरराष्ट्रीय प्रेस को बताया कि एमार पर 70 बिलियन अमरीकी डालर और दुबई राज्य का अतिरिक्त 10 बिलियन अमरीकी डालर का ऋण है जबकि उनकी अचल संपत्ति लगभग 350 बिलियन अमेरिकी डालर है। 2009 की शुरुआत तक वैश्विक आर्थिक स्तिथि और भी ख़राब हो गई थी जिससे संपत्ति मूल्यों, निर्माण और रोजगार पर भारी संकट पड़ा .[74] 2009 फ़रवरी को दुबई का अनुमानित विदेशी ऋण लगभग 100 बिलियन अमरीकी डालर है जिससे अमीरात के 250,000 संयुक्त अरब अमीराती नागरिक 400,000 अमरीकी डालर के विदेश क़र्ज़ के जिम्मेदार है।[75] तथापि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इसमें थोड़ा अधिपति कर्ज भी है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

पर्यटन

दुबई में पर्यटन दुबई सरकार के अमीरात में विदेशी पैसे के प्रवाह को बनाए रखने की रणनीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। दुबई में पर्यटकों के आकर्षण का आधार मुख्यतः खरीदारी और इसके प्राचीन और आधुनिक आकर्षण हैं .

2007 में, दुबई दुनिया के सबसे ज्यादा भ्रमण किये गए शहरों की सूची में 8 स्थान पर था। [76] दुबई में 2015 तक 15 मिलियन से अधिक पर्यटकों को समायोजित की संभावना हैं .[77] दुबई संयुक्त अरब अमीरात के सात अमीरात में सबसे अधिक आबादी वाला अमीरात है। यह संयुक्त अरब अमीरात के अन्य सदस्यों से अलग है क्योंकि पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस से इसे सकल घरेलू उत्पाद का केवल 6% राजस्व ही मिलता है। अमीरात के राजस्व का बहुमत जेबेल अली मुक्त क्षेत्र (JAFZ) और अब बढ़ते हुए पर्यटन से आता है .

खुदरा

thumb|left|दुबई मॉल दुनिया का सबसे बड़ा मॉल है | दुबई को मध्य पूर्व की 'खरीदारी की राजधानी"[78] और साथ ही दुनिया की खरीदारी स्वर्ग का स्वर्ग बुलाया गया है। अकेले दुबई में 70 से अधिक शॉपिंग मॉल है और दुनिया का सबसे बड़ा शॉपिंग मॉल दुबई मॉल भी यहीं है। यह शहर इस क्षेत्र के देशों से में खरीदारी करने वाले पर्यटकों को बड़ी संख्या में आकर्षित करता है और साथ ही दूर के देशों पूर्वी यूरोप, अफ्रीका और भारतीय उपमहाद्वीप के खरीदारों को भी आकर्षित करता है। दुबई अपनी सूक (Souk) जिलों के लिए जाना जाता है। सूक एक अरबी शब्द है जिसका मतलब बाज़ार या ऐसी जगह है जहां पर माल लाया या लेन देन किया जाता है। परंपरागत रूप से, सुदूर पूर्व, चीन, श्रीलंका और भारत से आये जहाज अपने माल का सौदा निकट के सूक (बाज़ार) में करते थे। [79] दुबई की सबसे वातावरण खरीदारी सूक में होती है जो खाड़ी के दोनों ओर है और वहां काफी सौदेबाजी होती है।

आधुनिक शॉपिंग मॉल और बुटीक भी शहर में पाए जाते हैं . दुबई ड्यूटी मुक्त जो दुबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे में है नि:शुल्क बहुराष्ट्रीय यात्री जो दुबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का इस्तेमाल करते है, उनको अनेक उत्पाद प्रदान करता है।

हालाँकि बुटीक, कुछ इलेक्ट्रॉनिक सामान की दुकानें, डिपार्टमेंट स्टोर और सुपरमार्केट एक निश्चित मूल्य के आधार पर काम करते हैं, अधिकांश अन्य दुकानें दोस्ताना मोल भाव को जीवन का एक तरीका मानती हैं .

दुबई के अनेक शॉपिंग केन्द्रों हर उपभोक्ता की जरूरत को पूरा करते है। कार, कपड़े, गहने, इलेक्ट्रॉनिक्स, सजाने का सामान, खेल के उपकरण और अन्य सामान सभी एक ही छत के नीचे होने की संभावना है।[80]

सिटीस्केप

Burj Dubai 001.jpg
DubaiJumeirahBeach.jpg

सरंचना

दुबई में विभिन्न स्थापत्य शैली के अनेक भवन और संरचाएं है। आधुनिक इस्लामी स्थापत्य को हाल ही में एक नए स्तर पर ले जाया गया है जिसमे ऐसी इमारतों जैसे बुर्ज खलीफा के रूप में वर्तमान में दुनिया का सबसे बड़ा निर्माण . बुर्ज खलीफा का डिजाइन इस्लामी स्थापत्य कला में सन्निहित आकृति प्रणाली से बनाया गया है। बिल्डिंग के तीन भाग पदचिन्ह एक रेगिस्तानी फूल हय्मानोकालिस जो दुबई क्षेत्र में होता है, के सार पर आधारित है। अरब समाज में वास्तुकला वृद्धि से कई इस्लामी स्थापत्य की आधुनिक व्याख्या दुबई में देखी जा सकती है।

उद्यान

दुबई में अनेक मनोरंजन पार्क और उद्यान है। दुबई में मशहूर मनोरंजन पार्क के कुछ हैं जुमेरह बीच पार्क, दुबई क्रीकसाइड पार्क, मुशरिफ पार्क, अल ममज़र पार्क और सफा पार्क . इसके अलावा अनेक छोटे पार्क और विरासत के गांव भी हैं दुबई में .

सफा पार्क, शहर के व्यापारिक क्षेत्र बुर्ज खलीफा से

दुबई की नगर पालिका की सामरिक योजना 2007-2011, 2011 तक प्रति व्यक्ति हरित क्षेत्र 23.4 वर्ग मीटर तक और दुबई के शहरी क्षेत्रों में खेती 3.15% तक बढ़ाना चाहती है। नगर पालिका ने एक हरियाली परियोजना शुरू की है जो चार चरणों में पूरी की जाएगी जिसमे प्रत्येक चरण में 10,000 पौधे लगाये जायेंगे . प्रसिद्ध उद्यानों में शामिल हैं: