ग्लेशियर नेशनल पार्क
आईयूसीएन श्रेणी द्वितीय (II) (राष्ट्रीय उद्यान)
2015-06-19 Glacier National Park (U.S.) 8633.jpg
हिडन झील, बीयरहट पर्वत (दाएं) एवं रेनॉल्ड्स पर्वत (बाएं)
ग्लेशियर नेशनल पार्क की अवस्थिति दिखाता मानचित्र
ग्लेशियर नेशनल पार्क की अवस्थिति दिखाता मानचित्र
ग्लेशियर नेशनल पार्क
संयुक्त राज्य में अवस्थिति।
अवस्थितिफ्लैथहेड काउंटी और ग्लेशियर काउंटी, मोन्टाना, संयुक्त राज्य
निकटतम शहरकोलम्बिया फॉल्स
निर्देशांक48°41′48″N 113°43′6″W / 48.69667°N 113.71833°W / 48.69667; -113.71833निर्देशांक: 48°41′48″N 113°43′6″W / 48.69667°N 113.71833°W / 48.69667; -113.71833
क्षेत्रफल1,013,322 एकड़ (4,100.77 कि॰मी2)
स्थापित11 मई 1910
आगंतुक2,965,309   (2018 में)
शासी निकायराष्ट्रीय उद्यान सेवा
वेबसाइटआधिकारिक जालस्थल इसे विकिडाटा पर सम्पादित करें
यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल
भागवाटरटन-ग्लेशियर अंतरराष्ट्रीय पीस पार्क
मानदंडप्राकृतिक: vii, ix
सन्दर्भ354
शिलालेख1995 (19 सत्र)

ग्लेशियर नेशनल पार्क (अंग्रेज़ी: Glacier National Park; उच्चा.: ग्लेशियर नेशनल पार्क) अमेरिकी राष्ट्रीय उद्यान है, जो कि कनाडा-संयुक्त राज्य अमेरिका की सीमा पर स्थित है। उद्यान संयुक्त राज्य के उत्तर-पश्चिमी मोंटाना राज्य में स्थित है और कनाडा की ओर अल्बर्टा और ब्रिटिश कोलम्बिया प्रांतों से सटा हुआ है। उद्यान दस लाख एकड़ (4,000 किमी2) से अधिक क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें दो पर्वत श्रृंखला (रॉकी पर्वत की उप-श्रेणियाँ), 130 से अधिक नामित झीलें, 1,000 से अधिक विभिन्न पौधों की प्रजातियां और सैकड़ों वन्यजीवों की प्रजातियां शामिल हैं। इस विशाल प्राचीन पारिस्थितिकी तंत्र को जो कि 16,000 वर्ग मील (41,000 किमी2) में शामिल संरक्षित भूमि का भाग है, "क्राउन ऑफ़ द कॉन्टिनेंट इकोसिस्टम" के रूप में संदर्भित किया गया है।[1]

ग्लेशियर नेशनल पार्क में लगभग सभी मूल स्थानीय पादप और जीव-जन्तु प्रजातियां हैं। बड़े स्तनधारी जैसे कि भूरा भालू, मूस, और पहाड़ी बकरियों के साथ-साथ दुर्लभ या लुप्तप्राय प्रजातियां जैसे कि वूल्वरिन और कनाडाई लिनेक्स, उद्यान में निवास करते हैं। यहां से पक्षियों की सैकड़ों प्रजातियां, एक दर्जन से अधिक मछलियों की प्रजातियां और कुछ सरीसृप और उभयचर प्रजातियों को प्रलेखित किया गया है। उद्यान में प्रेरी से टुंड्रा तक कई पारिस्थितिकी तंत्र हैं। उद्यान के दक्षिण-पश्चिम हिस्से में पश्चिमी रेडेकार्डर और हेमलॉक के जंगल पाये जाते हैं। उद्यान के जंगलों में आग लगना आम है। 1964 को छोड़कर उद्यान में हर साल आग लगती है। 1936 में 64 बार आग लगी थी जो कि रिकॉर्ड में सबसे अधिक है।[2][3] 2003 में लगी छह आग ने लगभग 136,000 एकड़ (550 किमी2), उद्यान के 13% से अधिक हिस्से को जला डाला था।[4]

इतिहास

ऊपरी सेंट मैरी झील के पास ब्लैकफ़ीट जनजाति का शिविर ल. 1916[5]

पुरातत्व प्रमाणों के अनुसार, मूल निवासी कुछ 10,000 साल पहले पहली बार हिमनद क्षेत्र में आये थे। ब्लैकफ़ीट जनजाति अब उद्यान के हिस्से हो चुके पूर्वी ढलान के साथ-साथ पूर्व की ओर ग्रेट प्लेन में निवास करती थी।[6] उद्यान की पूर्वी सीमा पर आज ब्लैकफ़ीट इंडियन अभ्यारण्य है जबकि फ्लेथेड इंडियन अभ्यारण्य उद्यान के पश्चिम और दक्षिण में स्थित है। 1895 में ब्लैकफ़ीट के मुखिया व्हाइट कॉफ़ ने अमेरिकी सरकार को कुछ 800,000 एकड़ का पर्वतीय क्षेत्र, 15 लाख डॉलर में बिक्री के लिए अधिकृत किया। इसमें यह समझ थी कि जब तक की यह संयुक्त राज्य की सार्वजनिक भूमि रहेगी, वह लंबे समय तक भूमि का उपयोग शिकार के लिए कर सकेगें।[7] इससे उद्यान और अभ्यारण्य के बीच वर्तमान सीमा की स्थापना हुई।

गोइंग-टू-सन रोड निर्माण के दौरान सड़क निर्माण, 1932

1806 में मैरियास नदी में सफर करते हुए, लुईस और क्लार्क अभियान उस क्षेत्र के 50 मील (80 किमी) के भीतर तक आ गये थे जो कि अब उद्यान है।[8] 1850 के बाद खोज की एक श्रृंखला ने उस क्षेत्र की समझ को आकार देने में मदद की जो बाद में उद्यान बन गया। 1885 में जॉर्ज बर्ड ग्रिनल ने प्रसिद्ध खोजकर्ता (और बाद में जाने-माने लेखक) जेम्स विलार्ड शुल्ज़ को इस क्षेत्र में एक शिकार अभियान में मार्गदर्शन करने के लिए काम पर रखा।[9] इस क्षेत्र में कई और यात्राओं के बाद, ग्रिनेल यहां के परिदृश्यों से इतना प्रेरित हो गए कि उन्होंने अगले दो दशक इसे राष्ट्रीय उद्यान के रूप में स्थापित करने के लिए बिताए। 1901 में ग्रिनेल ने उस क्षेत्र का वर्णन लिखा जिसमें उन्होंने इसे "क्राउन ऑफ़ द कॉन्टिनेंट" कहा था। भूमि की रक्षा के उनके प्रयासों ने उन्हें इस अभियान का प्रमुख योगदानकर्ता बना दिया।[10]

लोगन पास के पश्चिम में गोइंग-टू-सन रोड के पास

1891 में ग्रेट नॉर्दर्न रेलवे ने 5,213 फीट (1,589 मीटर) पर मैरियास दर्रा पर महाद्वीपीय विभाजन तक पहुंच बनाई जो कि उद्यान की दक्षिणी सीमा बनाता है। 1897 में उद्यान को वन संरक्षण के रूप में नामित किया गया था।[11] वन होते हुए भी खनन की अनुमति अभी भी थी, लेकिन व्यावसायिक रूप से सफल नहीं हो सकी। 1910 में, अमेरिकी कांग्रेस में एक बिल पेश किया गया था जिसमें इस क्षेत्र को एक राष्ट्रीय उद्यान नामित किया था। इस बिल पर 1910 में राष्ट्रपति विलियम होवर टाफ्ट ने हस्ताक्षर कर इसे कानून में बदल दिया।[12] द ग्रेट नॉर्थ रेलवे ने अध्यक्ष लुइस डब्ल्यू हिल की देखरेख में 1910 के दशक में पूरे क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कई होटल और शैले बनाए। इन इमारतों को हिमनद को "अमेरिका का स्विट्जरलैंड" के रूप में चित्रित करने की योजना के तहत इन्हें स्विस वास्तुकला पर बनाया गया था।[13]

उद्यान में स्थित स्पेरी शैलेट

जब उद्यान अच्छी तरह से स्थापित हो गया और आगंतुकों ने ऑटोमोबाइल पर अधिक भरोसा करना शुरू कर दिया तो 53-मील (85 किमी) लंबा "गोइंग-टू-द-सन रोड" पर काम शुरू किया गया। यह 1932 में पूरा हुआ। इसे "सन रोड" के रूप में भी जाना जाता है। यह सड़क एकमात्र मार्ग है जो उद्यान के अंदर तक जाती है। सन रोड ऐतिहासिक स्थलों के राष्ट्रीय रजिस्टर में भी सूचीबद्ध है और 1985 में इसे एक राष्ट्रीय ऐतिहासिक सिविल इंजीनियरिंग लैंडमार्क के रूप में नामित किया गया था।[14] पार्क और राष्ट्रीय वन के बीच दक्षिणी सीमा के साथ एक और मार्ग, यूएस रूट 2 है, जो मैरियास दर्रे पर महाद्वीपीय विभाजन को पार करता है और वेस्ट ग्लेशियर और ईस्ट ग्लेशियर के शहरों को जोड़ता है।

भूगोल और भूविज्ञान

सर्दियों के दौरान फ्लेथेड नदी

यह उद्यान उत्तर में अल्बर्टा के वॉटरटन झील राष्ट्रीय उद्यान और ब्रिटिश कोलंबिया के फ्लैथहेड प्रांतीय वन और अकामिना-किशनिना प्रांतीय उद्यान से घिरा है।[15] पश्चिम में, फ्लेथेड नदी की उत्तरी धारा पश्चिमी सीमा बनाती है जबकि इसकी मध्य धारा दक्षिणी सीमा का हिस्सा है। ब्लैकफेट इंडियन अभ्यारण्य अधिकांश पूर्वी सीमा बनाता है। लुईस और क्लार्क और फ्लैथहेड राष्ट्रीय वन दक्षिणी और पश्चिमी सीमा बनाते हैं।[16]

उद्यान में एक दर्जन बड़ी और 700 छोटी झीलें हैं लेकिन उनमें से केवल 131 झीलें का नाम हैं।[17] उद्यान के पश्चिमी तरफ मैकडॉनल्ड झील 9.4 मील (15.1 किमी) के साथ सबसे लंबी, 6,823 एकड़ (27.61 किमी 2) क्षेत्र के साथ में सबसे बड़ी और 464 फीट (141 मीटर) के साथ सबसे गहरी झील है। कई छोटी झीलें, जिन्हें टार्न्स के रूप में जाना जाता है, हिमनदों के कटाव से बनने वाली हिमगह्वर में स्थित हैं। हिमस्खलन झील और क्रैकर झील जैसी इन झीलों में से कुछ, निलंबित ग्लेशियल गाद के कारण यह एक अपारदर्शी फ़िरोज़ा रंग की हैं। इसी के कारण झीलो से निकलने वाली कई धाराएं दूधिया सफेद रंग की दिखाई देती हैं। ग्लेशियर नेशनल पार्क की झीलें साल भर ठंडी रहती हैं। उनकी सतह पर तापमान शायद ही कभी 50°F (10°C) से ऊपर जाता हो।[17] इस प्रकार की ठंडे पानी की झीलें, प्लवक वृद्धि के लिये अनुकूलित होती हैं, जिसके कारण झील का पानी उल्लेखनीय रूप से पारदर्शी होता है। प्लवक की कमी से, प्रदूषण निस्पंदन की दर को कम हो जाती है। जिसके कारण प्रदूषकों के पानी में रहने की अवधि बढ़ जाती है। नतीजतन, झीलों को पर्यावरण प्रदुषण मापन में अग्रणी माना जाता है क्योंकि वे प्रदूषकों में मामूली वृद्धि से भी जल्दी प्रभावित हो सकती हैं।[18]

टू मेडिसिन झील और सिनपोह पर्वत

पूरे उद्यान में दो सौ झरने फैले हुए हैं। हालांकि, सूखे के अवधि के दौरान, इनमें से कई एक छोटी धाराओं में सिमट जाती हैं। सबसे बड़े जलप्रपातों में टू मेडिसिन क्षेत्र में मैकडॉनल्ड्स जलप्रपात और मेनी हिमनद क्षेत्र में स्विफ्टक्रंट जलप्रपात शामिल हैं। इन्हें आसानी से देखा जा सकता है और इसके पास कई ग्लेशियर होटल मौजूद है। सबसे ऊंचे झरनों में से एक बर्ड वुमन जलप्रपात है, जो ओबेरलिन पर्वत के उत्तरी ढलान के नीचे एक लटकती घाटी से 492 फीट (150 मीटर) नीचे गिरती है।[19]

उद्यान में पाई जाने वाली चट्टानें मुख्य रूप से बेल्ट सुपरग्रुप की तलछटी चट्टानें हैं। वे 1.6 अरब से 800 मिलियन वर्ष पहले उथले समुद्रों में जमा हो गए थे। रॉकी पर्वत के निर्माण के दौरान 170 मिलियन साल पहले, चट्टानों के एक क्षेत्र को जिसे अब लुईस ओवरथ्रस्ट के रूप में जाना जाता है, 50 मील (80 कि॰मी॰) पूर्व की ओर खिसक गया था। यह ओवरथ्रेस्ट कई मील (किलोमीटर) मोटा और सैकड़ों मील (किलोमीटर) लंबा था।

हिमनद

ग्लेशियर नेशनल पार्क में पहाड़ों का वर्चस्व है जो पिछले हिमयुग के विशाल ग्लेशियरों द्वारा अपनी वर्तमान आकृतियों में उकेरा गया था। ये हिमनद पिछले 12,000 वर्षों में बड़े पैमाने पर गायब हो गए हैं।[20] व्यापक आकार के हिमनदों के साक्ष्य पूरे उद्यान में यू आकार की घाटियों, हिमगह्वर, तीक्ष्ण कटक और उच्चतम चोटियों की तल से उंगलियों की तरह विकीर्ण करते हुए बड़े बहिर्वाह झीलों के रूप में देखा जा सकता हैं।[21] हिम युग के अंत के बाद से, क्षेत्र के गरमाने और शीतलन की प्रवृत्ति कई बार हुई हैं। अंतिम हालिया शीतलन प्रवृत्ति अल्प हिमयुग के दौरान थी, जो लगभग 1550 और 1850 के बीच हुई थी।[22] अल्प हिमयुग के दौरान, उद्यान में हिमनद विस्तारित और उन्नत हुए, हालांकि हिमयुग के दौरान के विस्तार से कहीं पीछे थे।[20]

20वीं शताब्दी के मध्य के दौरान, पिछली शताब्दी के नक्शे और तस्वीरों की जांच से स्पष्ट सबूत मिले कि सौ साल पहले उद्यान में मौजूद 150 हिमनद बहुत पिघल चुके है, और कई मामलों में पूरी तरह से गायब हो गए है।[23] 1938 और 2009 के बीच हिमनदों की लगातार तस्वीरों द्वारा उनके पिघलने की दृश्य पुष्टि प्राप्त होती है।

Grinnell Glacier 1938.jpg Grinnell Glacier 1981.jpg Grinnell Glacier 1998.jpg Grinnell Glacier 2009.jpg Grinnell Glacier from summit of Mt Gould 2015 7648 crop.jpg
1938 1981 1998 2009 2015

उद्यान के पारिस्थितिक तंत्र पर हिमनदो के कम होने का प्रभाव पूरी तरह से ज्ञात नहीं है, लेकिन पौधे और पशु प्रजातियां जो ठंडे जल पर निर्भर हैं, निवास के नुकसान के कारण विलुप्त हो सकते हैं। कम होते हिमनदों के शुष्क गर्मी और पतझड़ के मौसम में कम पिघलने के कारण जल प्रवाह प्रभावित हो सकता है, जिससे जल स्तर कम हो जाता है और जंगलों में आग का खतरा बढ़ जाता है। हिमनदों के नुकसान से सौंदर्यवादी दृश्य अपील भी कम हो जाती है, जिन्हें देखने आगंतुक आते हैं।[24]

जलवायु

23 मार्च 2006 को बर्फ से ढ़का हुआ गोइंग-टू-द-सन रोड

जैसा कि उद्यान महाद्वीपीय विभाजन में फैला हुआ है, और ऊँचाई विभिन्नता 7,000 फीट (2,100 मीटर) से अधिक है, उद्यान में कई जलवायु और सूक्ष्मजलवायु पाए जाते हैं। अन्य अल्पाइन प्रणालियों की तरह ही, औसत तापमान आमतौर पर ऊंचाई बढ़ने पर गिरते जाता है।[25] उद्यान के पश्चिमी भाग में पैसिफिक वाटरशेड की ऊंचाई कम होने के कारण यहां एक गर्म और नम जलवायु है। वर्षा सर्दियों और वसंत के दौरान सबसे अधिक, हर महीने औसतन 2 से 3 इंच (50 से 80 मिमी) होती है। बर्फबारी वर्ष के किसी भी समय, और विशेष रूप से उच्च ऊंचाई पर गर्मियों में भी हो सकती है। सर्दियों में लंबे समय तक ठंडी लहरें चलती हैं, विशेष रूप से महाद्वीपीय विभाजन के पूर्वी भाग में, जिसकी ऊंचाई अधिक है।[26] सर्दियों के दौरान बर्फबारी महत्वपूर्ण होती है, जिसका सबसे बड़ा संचय पश्चिम में होता है। पर्यटन मौसम के दौरान, दिन का उच्च तापमान औसतन 16 से 21°से (60 से 70°फे) होता है, और रात का तापमान आमतौर पर 4°से (40°फे) तक गिर जाता है। उच्च क्षेत्र में तापमान बहुत अधिक ठंडा हो सकता है। निचली पश्चिमी घाटियों में, गर्मियों में दिन का तापमान 30°से (90°फे) तक पहुंच सकता है।[27]

हिमनद में वायु और जल की गुणवत्ता को उत्कृष्ट माना जाता है। घनी मानव आबादी का कोई भी प्रमुख क्षेत्र पास में मौजूद नहीं है और कारखानों और प्रदूषकों के अन्य संभावित योगदानकर्ताओं की कमी के कारण क्षेत्र में औद्योगिक प्रभाव कम हैं।[28] हालाँकि, पूरे उद्यान में पाई जाने वाली जीवाणुरहित और ठंडी झीलें वायु द्वारा लाये प्रदूषकों से आसानी से दूषित हो जाती हैं जो बारिश या बर्फबारी के दौरान झील पर गिरती हैं और इन प्रदूषकों के कुछ प्रमाण उद्यान के जल में पाए गए हैं। जंगल की आग भी जल की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकते है। हालाँकि, प्रदूषण स्तर को वर्तमान में नगण्य माना जाता है, और उद्यान के झीलों और अन्य जलस्रोतों के जल को A-1 की गुणवत्ता प्रदान की गई है, जो मोंटाना राज्य द्वारा दी गई उच्चतम श्रेणी है।[29]