आकाश
Akash SAM.jpg
आकाश मिसाइल का परीक्षण एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर), चांदीपुर, ओडिशा
प्रकार गतिशील सतह से हवा में मिसाइल प्रणाली
उत्पत्ति का मूल स्थान भारत
सेवा इतिहास
सेवा में 2009-वर्तमान
द्वारा प्रयोग किया भारतीय थल सेना
भारतीय वायु सेना
उत्पादन इतिहास
डिज़ाइनर डीआरडीओ
निर्माता आयुध कारखाना बोर्ड
भारत डायनेमिक्स
भारत इलेक्ट्रॉनिक्स
उत्पादन तिथि 2009-वर्तमान
निर्माणित संख्या 3000 मिसाइले[1]
निर्दिष्टीकरण
वजन 720 कि॰ग्राम (1,590 पौंड)
लंबाई 578 से॰मी॰ (228 इंच)
व्यास 35 से॰मी॰ (14 इंच)

वारहेड उच्च विस्फोटक, पूर्व खंडित बम
वारहेड वजन 60 कि॰ग्राम (130 पौंड)
विस्फोट तंत्र आरएफ निकटता फ्यूज

फेंकने योग्य अभिन्न रॉकेट मोटर/रैमजेट बूस्टर और स्थिर मोटर
परिचालन सीमा 30 कि॰मी॰ (19 मील)[2]
उड़ान छत 18 कि॰मी॰ (59,000 फीट)
गति मैक 2.5[2]
मार्गदर्शन प्रणाली कमान मार्गदर्शन

आकाश प्रक्षेपास्त्र भारत द्वारा स्वदेशीय निर्मित, माध्यम दूर की सतह से हवा में मार करने वाली प्रक्षेपास्त्र प्रणाली है। इसे रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा विकसित किया गया है।[3][4][5] मिसाइल प्रणाली विमान को 30 किमी दूर व 18,000 मीटर ऊंचाई तक टारगेट कर सकती है।[6] इसमें लड़ाकू जेट विमानों, क्रूज मिसाइलों और हवा से सतह वाली मिसाइलों के साथ-साथ बैलिस्टिक मिसाइलों जैसे हवाई लक्ष्यों को बेअसर करने की क्षमता है।[7][8][9][10] यह भारतीय थल सेना और भारतीय वायु सेना के साथ परिचालन सेवा में है।

आकाश की एक बैटरी में एक एकल राजेंद्र 3डी निष्क्रिय इलेक्ट्रॉनिक स्कैन सरणी (ऐरे) रडार और तीन-तीन मिसाइलों के साथ चार लांचर हैं, जो सभी एक दूसरे से जुड़े हैं। प्रत्येक बैटरी 64 लक्ष्यों तक को ट्रैक कर सकती है और उनमें से 12 तक पर हमला कर सकती है। मिसाइल में एक 60 किग्रा उच्च विस्फोटक, पूर्व-खंडित हथियार है जो निकटता (प्रोक्सिमिटी) फ्यूज के साथ है। आकाश प्रणाली पूरी तरह से गतिशील है और वाहनों के चलते काफिले की रक्षा करने में सक्षम है। लांच प्लेटफार्म को दोनों पहियों और ट्रैक वाहनों के साथ एकीकृत किया गया है जबकि आकाश सिस्टम को मुख्य रूप से एक हवाई रक्षा (सतह से हवा) के रूप में बनाया गया है। इसे मिसाइल रक्षा भूमिका में भी टेस्ट किया गया है। प्रणाली 2,000 किमी² के क्षेत्र के लिए हवाई रक्षा मिसाइल कवरेज प्रदान करती है। रडार सिस्टम (डब्ल्यूएलआर और निगरानी) सहित आकाश मिसाइल के लिए भारतीय सेना का संयुक्त ऑडर कुल 23,300 करोड़ (यूएस$4 बिलियन) के मूल्य का है।[11][12][13]

विकास और इतिहास

मार्क-1

1990 में आकाश मिसाइल का पहली परीक्षण उड़ान आयोजित की गयी और मार्च 1997 तक इसकी विकास की उड़ने चली। 2005 में दो आकाश मिसाइलों ने दो तेजी से बढ़ते लक्ष्य को एक साथ जुड़ाव मोड में नष्ट किया। 3-डी केंद्रीय अधिग्रहण रडार (3डी-कार) समूह मोड प्रदर्शन पूरी तरह से स्थापित है।[14][15]

आकाश मिसाइल की विकास लागत ₹1000 करोड़ (€150 मिलियन; 200 मिलियन) है जिसमें 600 करोड़ रुपए (€9 मिलियन; 120 मिलियन) की परियोजना स्वीकृति शामिल है। आकाश मिसाइल के विकास की लागत दूसरे देशों में इसी तरह के सिस्टम विकास की लागत से 8-10 गुना कम है। आकाश में कुछ अनोखी विशेषताएं हैं जैसे कि गतिशीलता, अवरोधन को लक्षित करने के लिए सभी तरह से संचालित उड़ान, एकाधिक लक्ष्य नियंत्रण, डिजिटल कोडित निर्देश मार्गदर्शन और पूरी तरह से स्वचालित संचालन आदि।[11]

मार्क-2

जैसा कि 11 जून 2010 को बताया गया, आकाश मार्क-2 संस्करण का विकास शुरू हो गया है और 24 महीनों में पहली उड़ान के लिए तैयार हो जाएगा। आकाश मार्क-2 एक लंबी दूरी की, तेज और अधिक सटीक सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल होगी। मिसाइल में 30-35 किलोमीटर की एक अवरोधक (इंटरसेप्टर) सीमा होगी और मिसाइल मार्गदर्शन प्रणाली और फायर नियंत्रण प्रणाली की सटीकता में वृद्धि की जायेगी।[16][17]

विवरण

मिसाइल

आकाश 30 किलोमीटर की एक अवरोधक सीमा के साथ एक सतह-से-हवा मिसाइल है।[2] इसका वज़न 720 किलोग्राम, व्यास 35 सेमी व लम्बाई 5.78 मीटर की है। आकाश सुपरसोनिक गति पर, 2.5 मैक के आसपास पहुंचती है। यह 18 किमी की ऊंचाई तक पहुंच सकती है और ट्रैक और पहिएदार दोनों प्लेटफार्मों से फायर किया जा सकता है।[2] एकचूएटर सिस्टम के साथ मिलकर एक ऑन-बोर्ड मार्गदर्शन प्रणाली 15 जी के लोड तक मिसाइल का उपयोग कर सकती है और पूंछ का पीछा करने की क्षमता काम तमाम करने की योग्यता प्रदान करती है। एक डिजिटल प्रोक्सिमिटी फ्यूज 55 किलो के पूर्व-विखंडित बम के साथ युग्मित है, जबकि सुरक्षा आर्मिंग और विस्फोट तंत्र एक नियंत्रित विस्फोट अनुक्रम (सीक्वेंस) सक्षम बनाता है। एक आत्म-विनाश डिवाइस भी एकीकृत है। यह एकीकृत रैमजेट रॉकेट इंजन द्वारा संचालित है रैमजेट प्रणोदन (इग्निशन) प्रणाली का इस्तेमाल उड़ान में रफ़्तार कम हुए बिना निरंतर गति को सक्षम बनाता है।[18] मिसाइल की पूरी उड़ान में कमांड गाइडेंस है।[3]

मिसाइल का डिजाइन एसए -6 के समान है, जिसमें चार लम्बी ट्यूब रैमजेट इनलेट नलिकाएं पंखों के बीच मध्य-शरीर पर हैं। पिच / यॉ कंट्रोल के लिए चार क्लिप किए गए त्रिकोणीय पंखों को मध्य-शरीर पर रखा गया है। रोल नियंत्रण के लिए पूंछ के सामने एलीयरॉन के साथ चार इनलाइन क्लिप्ड डेल्टा पंख लगाए जाते हैं। हालांकि, आंतरिक स्कीमा ऑनबोर्ड डिजिटल कंप्यूटर के साथ एक अलग लेआउट दिखाती है, कोई अर्ध-सक्रिय सीकर नहीं, अलग प्रोपेलेंट, विभिन्न एक्ट्यूएटर और कमांड मार्गदर्शन डेटालिंक्स। आकाश में एक ऑनबोर्ड रेडियो प्रोक्सिमिटी फ़्यूज़ होता है।

आकाश की समग्र तकनीक में शामिल हैं रेडॉम असेंबली, बूस्टर लाइनर, एबलेट लाइनर, टावर लाइनर आदि।[19]

सिस्टम

प्रत्येक आकाश की बैटरी में चार आत्म-चालित लांचरों (प्रत्येक में 3 आकाश मिसाइल), एक बैटरी स्तर रडार - राजेंद्र, और एक कमान पोस्ट (बैटरी नियंत्रण केंद्र) शामिल होती हैं। दो बैटरी को एक स्क्वाड्रन (वायु सेना) के रूप में तैनात की जाता है, जबकि चार बैटरी तक को आकाश समूह (आर्मी कॉन्फिगरेशन) के रूप में तैनात की जाता है। दोनों विन्यास में एक अतिरिक्त समूह नियंत्रण केंद्र (जीसीसी) जोड़ा गया है, जो स्क्वाड्रन या समूह के कमान और नियंत्रण मुख्यालय के रूप में कार्य करता है। एकल मोबाइल प्लेटफॉर्म के आधार पर, ग्रुप कंट्रोल सेंटर बैटरी नियंत्रण केंद्रों के साथ लिंक स्थापित करता है और आपरेशन के क्षेत्र में स्थापित हवाई रक्षा के समन्वय में हवाई रक्षा को संचालित करता है। प्रारंभिक चेतावनी के लिए, समूह नियंत्रण केंद्र केंद्रीय अधिग्रहण रडार पर निर्भर करता है। हालांकि, अलग-अलग बैटरी को सस्ते 2-डी बीएसआर (बैटरी निगरानी रडार) के साथ 100 किमी से अधिक की दूरी तक तैनात किया जा सकता है।

आकाश में एक उन्नत स्वचालित कार्य क्षमता है। 3डी राडर स्वचालित रूप से सिस्टम और ऑपरेटरों को पहले ही चेतावनी देने के लिए लगभग 150 किमी की दूरी पर लक्ष्य की ट्रैकिंग शुरू कर देता है। टारगेट ट्रैक की जानकारी को समूह नियंत्रण केंद्र पर स्थानांतरित कर दिया जाया है। समूह नियंत्रण केंद्र स्वचालित रूप से लक्ष्य को वर्गीकृत करता है। बैटरी निगरानी रडार 100 किमी की सीमा के आसपास टारगेट की ट्रैकिग करना शुरू कर देता है। यह डेटा समूह नियंत्रण केंद्र को स्थानांतरित कर दिया जाता है। समूह नियंत्रण केंद्र बहु-रडार ट्रैकिंग करती है और ट्रैक सहसंबंध और डेटा संलयन पर काम करती है। लक्ष्य की स्थिति की जानकारी बैटरी स्तर रडार को भेजी जाती है जो लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए इस सूचना का उपयोग करती है।

विभिन्न वाहनों के बीच संचार वायरलेस और वायर्ड लिंक का एक संयोजन है। पूरे सिस्टम को तेजी से स्थापित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

आकाश प्रणाली को रेल, सड़क या वायु द्वारा तैनात किया जा सकता है।

रडार

मिसाइल को चरणबद्ध सरणी फायर कंट्रोल रडार द्वारा निर्देशित किया जाता है जिसे 'राजेंद्र' कहा जाता है यह बैटरी स्तर राडार (बीएलआर) के रूप में लगभग 60 किमी तक के टारगेट की ट्रैकिंग कर सकता है। ट्रैकिंग और मिसाइल मार्गदर्शन रडार कॉन्फ़िगरेशन में 4000 से अधिक तत्वों के एक मृदु चरणबद्ध सरणी एंटीना, शुद्ध TWT ट्रांसमीटर, दो स्टेज सुपरहेट्रॉइड सहसंबंध रिसीवर, उच्च गति डिजिटल सिग्नल प्रोसेसर, रीयल टाइम मैनेजमेंट कंप्यूटर और एक शक्तिशाली रडार डेटा प्रोसेसर शामिल हैं। यह सीमा, अजीमुथ और ऊंचाई में 64 लक्ष्यों को ट्रैक कर सकता है और आठ मिसाइलों को एक साथ एक तरफ फायर मोड में चार लक्ष्यों के लिए मार्गदर्शन कर सकता है।

प्लेटफार्म

सेना के रडार और लांचर ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड द्वारा निर्मित टी -72 चेसिस पर आधारित हैं वायु सेना के संस्करण ट्रैक और पहिया वाहन के संयोजन का उपयोग करते हैं। वायु सेना के आकाश लांचर में एक वियोज्य ट्रेलर होता है जिसे एक अशोक लेलैंड ट्रक द्वारा लाया जाता है और जो स्वायत्तता से तैनात किया जा सकता है। दोनों सेना और वायुसेना के लांचर में प्रत्येक तीन रेडी-टू-फाइअर आकाश मिसाइलें हैं।

प्रोपल्शन

आकाश, 2K12 रूसी (एसए-6 गेनफुल) की तरह, एक एकीकृत रैमजेट-रॉकेट प्रणोदन (प्रोपल्शन) प्रणाली का उपयोग करता है, जो अपनी अधिकांश उड़ान में मिसाइल तो थ्रस्ट देता है। क्योंकि इस मिसाइल में एकीकृत रैम-रॉकेट है, जिसकी गतिशीलता उच्चतम है। इंजन उड़ान भर में चालू रहता है मिसाइल लक्ष्य को रोकता है जब तक थ्रस्ट दिया जाता है। यू.एस. पैट्रियट और रूसी एस-300 श्रृंखला सहित अधिकांश अन्य सतह से हवा वाली मिसाइलें, ठोस ईंधन रॉकेट प्रणोदन का उपयोग करती हैं।

स्थिति

भारतीय वायु सेना

दिसंबर 2007 में, भारतीय वायु सेना ने इस मिसाइल के लिए उपयोगकर्ता परीक्षण पूरा किए। दस दिनों में फैले हुए परीक्षणों को मिसाइल द्वारा पांच मौकों पर लक्ष्य गिराने के बाद सफल घोषित किया गया। आकाश हथियार प्रणाली की अनेक टारगेट से निपटने की क्षमता को सीआई पर्यावरण में लाइव फायरिंग द्वारा प्रदर्शित किया गया था। चंडीपुर में दस दिवसीय परीक्षण से पहले, ग्वालियर एयर फोर्स बेस में ईसीसीएम मूल्यांकन परीक्षण किया गया और पोखरण में गतिशीलता परीक्षण किया गया। आईएएफ ने आकाश की निरंतरता को सत्यापित करने के लिए यूजर ट्रायल डायरेक्टिव विकसित किया था। निम्न परीक्षणों का आयोजन किया गया था: कम-उड़ान निकटता वाले लक्ष्य, लंबी दूरी की उच्च ऊंचाई लक्ष्य, नीचें उतरते कम ऊंचाई वाले लक्ष्य के खिलाफ एक ही लांचर से रिप्पल फायरिंग द्वारा दो मिसाइलों से टारगेट।[20]

भारतीय वायु सेना व्यापक उड़ान परीक्षण के बाद आकाश के प्रदर्शन से संतुष्ट थी और उसने हथियार प्रणाली को शामिल करने का फैसला किया है। दो स्क्वाड्रनों के लिए एक आदेश प्रारंभ में रखा गया था, जिन्हें 2009 में शामिल किया गया था। भारतीय वायुसेना ने मिसाइल प्रदर्शन को संतोषजनक माना था और 16 अन्य लांचरों के आदेश के लिए भारत के पूर्वोत्तर थिएटर के लिए दो और स्क्वाड्रॉन बनाए जाने की उम्मीद की गई थी।[21][22][23]

मई 2008 में, भारतीय वायु सेना ने आकाश मिसाइल के दो स्क्वाड्रनों (कुल 4 बैटरी) को शामिल करने का निर्णय लिया।[24]

मार्च 2009 में, टाटा पावर के रणनीतिक इंजीनियरिंग डिवीजन (टाटा पावर एसईडी) ने घोषणा की कि 16 लांचरों को अगले 33 महीनों में वितरित करने के लिए उसने 1.82 अरब डॉलर का ऑर्डर प्राप्त किया है।[25]

जनवरी 2010 में, यह पता चला कि भारतीय वायु सेना ने 6 और स्क्वाड्रनों के लिए आदेश दिया था। प्रत्येक स्क्वाड्रन में 125 मिसाइल शामिल होंगे, जिससे 6 स्क्वाड्रनों के लिए 750 मिसाइलों को ऑर्डर मिलेगा।[26] पहले दो स्क्वाड्रन में प्रत्येक में 48[27] मिसाइल शामिल होंगे जबकि भविष्य में स्क्वॉड्रन संख्या में भिन्न होंगे, वायुसेना के आधार पर। अतिरिक्त मिसाइलों को सरकारी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स को आदेश दिया गया था, जो 42.79 बिलियन (925 मिलियन डॉलर) की कीमत पर सिस्टम इंटीग्रेटर के रूप में कार्य करेगा।[28]

एरो इंडिया 2011 में आकाश मिसाइल

भारतीय सेना

जून 2010 में, रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) ने आकाश मिसाइल प्रणाली का आदेश दिया, जिसका मूल्य 12,500 करोड़ रुपये (2.8 अरब डॉलर) था। आकाश डायनेमिक्स (बीडीएल) आकाश सेना संस्करण के लिए सिस्टम इंटीग्रेटर और नोडल प्रोडक्शन एजेंसी होगी।[11] सेना ने मिसाइल के दो रेजिमेंटों को शामिल करने की योजना बनाई है।[29]

मार्च 2011 में, एक रिपोर्ट इंगित करती है कि भारतीय सेना ने 2 आकाश रेजिमेंटों का आदेश दिया है - लगभग 2,000 मिसाइलें - कीमत 14,000 करोड़ रुपए (3.1 अरब डॉलर) है।[30] ये भारतीय सेना के 2 एसए -6 समूह (155 मिसाइलों वाले 25 सिस्टम) की जगह ले लेगी, जो 1977 और 1979 के बीच शामिल थे।[31]

5 मई 2015 को आकाश मिसाइल को भारतीय सेना में शामिल किया गया था।[32]

11 अप्रैल से 13 अप्रैल 2015 तक, भारतीय सेना ने सफलतापूर्वक मिसाइलका छह दौरों में परीक्षण किया। ओडिशा में चांदिपुरी में एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) के कॉम्प्लेक्स 3 से परीक्षण किया गया। मिसाइलों ने पायलट लेस लक्ष्य विमान (पीटीए) को निशाना बनाया, मानव रहित वायुयान (यूएवी) 'बैनशी' और एक पैरा बैरल लक्ष्य को दो बार टारगेट किया गया था।[33][34][35][36][37][38]

30 मार्च 2016 को, भारतीय सेना ने कहा कि आकाश क्षेत्र रक्षा मिसाइल प्रणाली आगे के क्षेत्रों में दुश्मन के वायु हमलों के खिलाफ के फौज का बचाव करने के लिए परिचालन आवश्यकताओं को पूरा नहीं करती अतः अधिक रेजिमेंटों का आदेश नहीं दे रही थी। इसके बजाय सेना ने चार इजरायली क्विक प्रतिक्रिया एसएएम रेजिमेंट्स का चयन किया।[39][40]

मिसाइल को मई 2015 में भारतीय सेना में शामिल किया गया था। सेना को 2017 तक दो आकाश रेजिमेंट मिलनी है।[41][42]

अन्य

यह भी बताया गया था कि मलेशिया, थाईलैंड, बेलारूस और वियतनाम ने आकाश मिसाइल प्रणाली खरीदने में रुचि दिखाई है।[43][44]

तैनाती

भारतीय वायुसेना ने ग्वालियर (महाराजपुर एएफएस), जलपाईगुड़ी (हिसिमारा एएफएस), तेजपुर, जोरहाट और पुणे (लोहेगांव एएफएस) में अपने अड्डों पर आकाश को तैनात किया है।[45][46]

भारतीय सेना ने जून-जुलाई 2015 में एक आकाश रेजिमेंट तैनात किया है, जिसमें 2016 के अंत तक दूसरा रेजिमेंट तैनात करने की योजना है।[47]

ऑपरेटर्स

 भारत